योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय ,उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री, शिक्षा, परिवार,नेटवर्थ | Yogi Aditya Nath Biography In Hindi

Social Share

योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय ,उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री, शिक्षा, परिवार,नेटवर्थ, रियल नेम, टि्वटर ,इंस्टाग्राम ,किताब , उम्र, माता , हाइट ,वाइफ ,गृह नगर ,विधानसभा क्षेत्र, जाति [ Yogi Adityanath Biography In Hindi ] (Chief Minister of Uttar Pradesh, education ,age, net worth , wife, real name, Twitter, Instagram, book, mother, height, home town, family, assembly constituency, caste)

उत्तराखंड के पौड़ी जनपद में जन्मे योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) का मूल नाम अजय सिंह बिष्ट है। इनका परिवार आज भी उत्तराखंड के पौड़ी जनपद में रहता है , इनके पिता वन विभाग में रेंजर के पद पर थे। इन्होंने अपनी शिक्षा उत्तराखंड से ही पूरी की। अपनी शिक्षा के दौरान ही इनकी मुलाकात वर्ष 1993 में महंत अवैद्यनाथ से हुई ,जो उस समय भारतीय जनता पार्टी के सांसद और गोरखनाथ पीठ के पीठाधीश्वर भी थे ।

इस मुलाकात के बाद वे गोरखनाथ पीठ उत्तर प्रदेश चले गए ,जहां उन्होंने महंत अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी के रूप में शिक्षा ली और सन्यासी हो गए और इसके बाद उनका नाम बदलकर योगी आदित्यनाथ हो गया। वह गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के महंत और राजनेता हैं ,एवं वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं।

19 मार्च 2017 को योगी जी उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की बड़ी जीत के बाद यहां के 21 में मुख्यमंत्री बने। योगी जी के पिता की मृत्यु 20 अप्रैल 2020 को हो गई थी।

योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय

नाम (Name) योगी आदित्यनाथ
(Yogi Adityanath)
रियल नेम (Real Name) अजय सिंह बिष्ट
जन्म (Born) 5 जून 1972
जन्म स्थान
(Birth Place)
पंचूर गांव, पौड़ी गढ़वाल (उत्तराखंड)
गृहनगर (Hometown) गोरखपुर (उत्तर-प्रदेश)
वर्तमान पता 5 कालिदास मार्ग, लखनऊ, उत्तर-प्रदेश
उम्र (Age) 49 वर्ष
पेशा (Profession) राजनीतिज्ञ , मुख्यमंत्री (उत्तर-प्रदेश),
पीठाधीश्वर गोरखनाथ मंदिर
राजनीतिक दल (Party) भारतीय जनता पार्टी
विधानसभा क्षेत्र गोरखपुर (उत्तर-प्रदेश)
संसदीय सीट गोरखपुर (उत्तर-प्रदेश)
हाइट (Height) 1.63 मीटर/ 5 fit, 4 inch
वेट (Weight) 72 kg
शिक्षा (Education) BSC ( गणित )
MCS (प्रथम वर्ष)
कॉलेज (College) हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
जाति (Caste) क्षत्रिय
धर्म (Religion) हिंदू (नाथ-संप्रदाय)
आध्यात्मिक गुरु महंत अवैद्यनाथ
राष्ट्रीयता भारतीय
नेटवर्थ लगभग 72 लाख प्रतिवर्ष
विधानसभा क्षेत्र गोरखपुर
Instagram Click Here
Twitter Click Here

योगी आदित्यनाथ का जन्म, शिक्षा

योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड के पौड़ी जनपद में स्थित पंचूर गांव में हुआ था।

इन्होंने अपनी जूनियर हाई स्कूल की शिक्षा पौड़ी स्थित अपने गांव पंचूर से ही पूरी की। इन्होंने अपनी नवी कक्षा की शिक्षा जमघोट से पूरी की इसके बाद वे अपने पिता के साथ टिहरी स्थित गजा चले गए और वहीं से इन्होंने अपनी हाई स्कूल की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की।

इंटरमीडिएट की शिक्षा इन्होने भरत मंदिर ऋषिकेश से पूरी की। इसके बाद इन्होंने कोटद्वार से स्नातक बीएससी गणित से किया। इसके बाद इन्होंने एमएससी प्रथम वर्ष की पढ़ाई ऋषिकेश से की।

योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय ,परिवार (Faimly)

पिता Father’s Name आनंद सिंह बिष्ट (फॉरेस्ट रेंजर)
माता Mother’s Name सावित्री देवी
भाई (Brother) महेंद्र सिंह बिष्ट, शैलेंद्र मोहन,
मानवेंद्र मोहन
बहन (Sister) शशि पयाल
बहनोई पूरण सिंह पयाल

योगी जी के तीन भाई और तीन बहने हैं ,जिसमें योगी जी पांचवें नंबर की संतान हैं।

सन्यासी जीवन

वर्ष 1993 में गणित में एमएससी की पढ़ाई के दौरान योगी जी गुरु गोरखनाथ पर शोध करने गोरखपुर आए एवं गोरखपुर में अपने चाचा महंत अवैधनाथ के शरण में ही चले गए और सन्यास ले लिया। 1994 में यह पूर्ण सन्यासी बन गए ,उसके बाद इनका नाम अजय सिंह बिष्ट से योगी आदित्यनाथ हो गया। सन्यास ग्रहण करने के बाद इन्होंने घर और परिवार त्यागने के बाद देश सेवा और समाज सेवा करने का संकल्प लिया।

15 फरवरी 1994 को महंत अवैद्यनाथ ने योगी जी को नाथ संप्रदाय की गुरु दीक्षा दी और उन्हें अपना शिष्य बना लिया। 12 सितंबर 2014 को महंत अवैद्यनाथ के निधन के बाद योगी आदित्यनाथ को गोरखनाथ मंदिर का महंत बनाया गया और नाथ पंथ के पारंपरिक अनुष्ठान के अनुसार मंदिर का पीठाधीश्वर बनाया गया।

राजनितिक जीवन

image credit : instagram

योगी जी 1990 में ग्रेजुएशन की पढ़ाई करते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गए।योगी जी का राजनीतिक जीवन बचपन में ही शुरू हो गया था। कॉलेज में इनकी गिनती अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेताओं में की जाने लगी थी। इसलिए उन्होंने छात्र चुनाव संघ में लड़ने की योजना बनाई। जिसमें अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने इनको टिकट नहीं दिया। जिसके बाद योगी जी ने निर्दलीय सदस्य के रूप में नामांकन भरा और 1992 में चुनाव हार गए।

इन्होंने 1998 में गोरखपुर से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। तब यह 26 वर्ष के थे और 12 वीं लोकसभा के सबसे युवा सांसद थे। वर्ष 1999 में यह गोरखपुर से पुनः सांसद चुने गए। उसके बाद अप्रैल 2002 में इन्होंने ”हिंदू युवा वाहिनी” की स्थापना की और 2004 में तीसरी बार लोकसभा का चुनाव फिर से जीत लिया। 2009 में यह दो लाख से ज्यादा वोटों से जीतकर लोकसभा पहुंचे।

वर्ष 2014 में पांचवी बार एक बार फिर से योगी जी ने दो लाख से ज्यादा वोटों से जीत हासिल की और सांसद चुने गए। 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को बहुमत मिला। इसके बाद उत्तर प्रदेश में 12 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए ,जिसमें योगी आदित्यनाथ से काफी प्रचार कराया गया। लेकिन परिणाम निराशाजनक रहा। फिर 2017 में विधानसभा चुनाव में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने योगी आदित्यनाथ से पूरे राज्य में प्रचार कराया और इन्हें एक हेलीकॉप्टर भी दिया गया। 19 मार्च 2017 में उत्तर प्रदेश के बीजेपी विधायक दल की बैठक में योगी जी को विधायक दल का नेता चुना और मुख्यमंत्री पद सौंपा गया ,और वे उत्तर प्रदेश के 21वे मुख्यमंत्री बने।

योगी जी ने 1998 से 2017 तक भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया और 2014 लोकसभा चुनाव में गोरखपुर से सांसद चुने गए। योगी जी हिंदू युवाओं के सामाजिक ,सांस्कृतिक और राष्ट्रवादी समूह ”हिंदू युवा वाहिनी” के संस्थापक भी हैं और राष्ट्रवादी नेता के रूप में प्रसिद्ध है। 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और सहयोगी दलों के साथ कुल 273 सीट जीतकर योगी जी फिर से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनेंगे।

योगी जी भारतीय जनता पार्टी के साथ बहुत पुराने वर्षों से जुड़े हुए हैं ,और वे पूर्वी उत्तर प्रदेश में अच्छा खासा दबदबा रखते हैं। क्योंकि इससे पहले उनके पूर्व अधिकारी गोरखनाथ मठ के पूर्व महंत अवैद्यनाथ भी भारतीय जनता पार्टी से 1991 तथा 1996 का लोकसभा चुनाव जीते हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रूप में भूमिका

19 मार्च 2017 को योगी जी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने और शपथ ली। यह शपथ समारोह लखनऊ के कांशीराम स्मृति उपवन में हुआ और उसी समय इनके साथ दो उप-मुख्यमंत्री भी बनाए गए। यह उत्तर प्रदेश के इतिहास में पहली बार हुआ जब दो उप-मुख्यमंत्री बने।

योगी जी जानवरों से भी प्रेम करते हैं ,खासकर गाय ,कुत्ते ,बिल्ली और बंदरों से ज्यादा प्यार करते हैं। इसलिए इन्होंने गौशालाए भी बनाई है। जहां वे गायों को अपने हाथ से खाना खिलाते हैं और उनके साथ समय व्यतीत करते हैं। आश्चर्य की बात तो यह है कि सारी गाय उन्हें पहचानती हैं और उन्होंने उनके नाम भी रखे हुए हैं। इससे पता चलता है कि वह गौ रक्षा और प्रेमी भी हैं। इसलिए उन्होंने मुख्यमंत्री बनने के बाद सारे अवैध स्लॉटर हाउस को बंद करा दिया। जहां मांस बिकता था और गौ मांस का व्यापार भी बंद करा दिया।

इन्होंने एंटी रोमियो का अभियान चलाया,जिसके चलते महिलाओं की सुरक्षा का ध्यान दिया गया और छोटे किसानों का कर्जा माफ किया। उत्तर प्रदेश में माफिया का सफाया और अपराधियों की अवैध संपत्ति को सीज किया गया।नोएडा में एक बड़ी फिल्म सिटी बनाने का निर्णय लिया। गन्ना किसानों के मूल्य का भुगतान किया। बिजली ,पानी की अच्छी व्यवस्था की गई। पर्यटन और धार्मिक स्थलों को स्वच्छ बनाने के लिए कार्य किए गए।

इन्होंने राम मंदिर का निर्माण भी शुरू करवा दिया ,जो लोगों की आस्था का केंद्र है। जहां लाखों करोड़ों की संख्या में लोग दर्शन करने आते हैं और दिल से जुड़े हुए हैं। इसीलिए मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी जी की पहली कोशिश यही रही कि राम मंदिर का निर्माण कैसे शुरू किया जाए और उसके लिए उन्होंने पूरी मेहनत और लगन से कार्य किया।

उत्तर प्रदेश 2022 विधानसभा चुनाव में प्रदर्शन

योगी जी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में गोरखपुर की शहरी सीट से समाजवादी पार्टी की उम्मीदवार शुभावती उपेंद्र दत्त शुक्ला को 126361 वोटों से हराकर जीत हासिल की। उत्तर प्रदेश में ऐसा पहली बार हुआ कि ,जब कोई पार्टी पूर्ण बहुमत से लगातार दूसरी बार सरकार बना रही हो। बीजेपी की इस जीत के बाद योगी जी ने उत्तर प्रदेश की जनता का धन्यवाद किया और आगे लोगों के लिए कार्य करने का आश्वासन दिया। 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और सहयोगी दलों के साथ कुल 273 सीट जीतकर योगी जी फिर से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनेंगे।

हिंदू युवा वाहिनी संगठन क्या है

योगी जी ने निजी सेना के रूप में एक संगठन बनाया, जिसका नाम ”हिंदू युवा वाहिनी” है। इसकी शुरुआत 2002 में हुई। इस संगठन का मुख्य कार्य ग्राम रक्षा दल के रूप में हिंदू विरोधी ,राष्ट्रवादी और माओवादी विरोधी गतिविधियों को नियंत्रित करना है ,इसी संगठन के कार्यों से गोरखपुर में शांति बड़ी और दंगों की संख्या में भी कमी आई। जिससे गोरखपुर के लोगों का योगी जी पर विश्वास बढ़ने लगा। जिसका परिणाम हुआ कि योगी जी 2014 के चुनाव में जीत गए।

किताब

योगी आदित्यनाथ जी पर एक किताब लिखी गई है जिसका नाम ”द मोंक हु ट्रांसफोर्मेड उत्तर प्रदेश : हाउ योगी आदित्यनाथ चेंज्ड यूपी वाला भैया’ एब्यूज टू ए बैज ऑफ ऑनर” जिसे शांतनु गुप्ता ने लिखा है।इनकी और भी किताबें हैं जिनका नाम हठयोग ,राजयोग,योगी का राम राज्य, योगी ते मुख्यमंत्री ,एक योगी की आत्मकथा,योगी गाथा,कर्म योगी सन्यासी योगीआदित्यनाथ, मुसलमान और योगी आदित्यनाथ ,एक योगी का त्यागपत्र है।

FAQ :

Q : योगी आदित्यनाथ का रियल नेम क्या है ?

Ans : योगी आदित्यनाथ का वास्तविक नाम अजय सिंह बिष्ट है।

Q : योगी आदित्यनाथ की उम्र कितनी है ?

Ans : वर्ष 2022 के अनुसार योगी जी की उम्र 49 वर्ष है।

Q : योगी आदिनाथ के माता-पिता का नाम क्या है ?

Ans : इनकी माता का नाम सावित्री देवी और पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट है।

Q : योगी आदित्यनाथ का जन्म कब और कहां हुआ ?

Ans : इनका जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड राज्य के पौड़ी गढ़वाल जनपद के पंचूर गांव में हुआ था।

Q : योगी आदित्यनाथ की पत्नी का नाम क्या है ?

Ans : योगी आदित्यनाथ जी ने अपनी शिक्षा के दौरान ही सन्यास धारण कर लिया था और वे अविवाहित हैं।

अन्य पोस्ट पढ़े :


Social Share

Leave a Comment

जानिए रविंद्र जडेजा क्यों हुए वर्ल्ड कप से बाहर लाइगर फिल्म अभिनेत्री अनन्या पांडे फैक्ट मीराबाई चानू ने जीता बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक Actress Tara Sutaria Biography, Age, Height, Family, Moveis, Networth भारती और हर्ष पहली बार नजर आए अपने बेबी के साथ जानिए बेबी का नाम बॉलीवुड की हॉट एक्ट्रेस दिशा पाटनी के बारे में जाने