साक्षी मलिक का जीवन परिचय, रेसलर, जन्म, उम्र, परिवार, नेटवर्थ, कॉमनवेल्थ गेम में स्वर्ण पदक विजेता | Sakshi Malik Biography in Hindi

Social Share

साक्षी मलिक का जीवन परिचय, रेसलर, जन्म, उम्र, परिवार, नेटवर्थ, कॉमनवेल्थ गेम में स्वर्ण पदक विजेता, ऑलम्पिक गेम, करियर, मैरिड, फादर, हॉबी, स्टेट, हाइट, मेडल, रिकार्ड्स, अवार्ड्स, उपलब्धियाँ, शिक्षा, इंस्टाग्राम, ट्विटर, फोटो [Sakshi Malik Biography in Hindi] (Wrestler, Birth, Age, Family, Net Worth, Commonwealth Games Gold Medalist, Olympic Games, Career, Married, Father, Hobby, State, Height, Medal, Records, Awards, Achievements, Education, Instagram, twitter, photo)

साक्षी मलिक एक भारतीय महिला पहलवान हैं। इन्होंने ब्राजील के रियो डि जेनेरियो में हुए 2016 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक में कांस्य पदक जीता है। भारत के लिए ओलंपिक पदक जीतने वाली वे पहली महिला पहलवान हैं।

इससे पहले इन्होंने ग्लासगो में आयोजित 2014 के राष्ट्रमण्डल खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए रजत पदक जीता था। 2014 के विश्व कुश्ती प्रतियोगिता में भी इन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया।

साक्षी एक फ्रीस्टाइल रेसलर है, इसके साथ ही साक्षी भारत की पहली भारतीय रेसलर बन गई है, जिन्होंने ओलंपिक में मैडल जीता है और भारत की चौथी महिला है जो ओलंपिक में मैडल जीत कर आई है।

साक्षी मालिक ने कॉमन वैल्थ गेम 2022 के वूमेन 62kg वर्ग के फाइनल में कनाडा की एना गोंडिनेज को हरा के गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

साक्षी मलिक का जीवन परिचय

Contents hide

(Sakshi Malik Biography in Hindi)

नाम (Name)साक्षी मलिक (Sakshi Malik)
जन्म (Birth)3 सितंबर 1992
जन्म स्थान (Birth Place)रोहतक , हरियाणा
गृहनगर (Home Town)रोहतक , हरियाणा
उम्र (Age)28 वर्ष (2022)
हाइट (Height)1.6 मी
वेट (Weight)62 KG
पेशा (Profession)भारतीय रेसलर
स्पर्धा (Event)58 KG, फ्रीस्टाईल कुश्ती
कोच (Coach)ईश्वर दहिया,
नेशनल कोच – कुलदीप मलिक, कृपाशंकर बिश्नोई
कॉलेज (College)रोह्तक के मह्रिषी दयानंद यूनिवर्सिटी
शैक्षिक योग्यताशारीरिक शिक्षा में मास्टर डिग्री
वैवाहिक स्थितिविवाहित
विवाह वर्ष2017
जाति (Caste)जाट
धर्म (Religion)हिंदू
राष्ट्रीयता (Nationality)भारतीय

साक्षी मलिक का परिवार (sakshi malik family)

पिता (Father’s Name)सुखबीर मलिक
माता (Mother’s Name)सुदेश मलिक
भाई (Brother)सचिन मलिक
बहन (Sister)ज्ञात नहीं
हसबैंड (Husbandसत्यव्रत कादियान (पहलवान)

साक्षी मलिक का जन्म, परिवार, शिक्षा

साक्षी मलिक का जन्म 3 सितंबर 1992 को मोखरा गाँव के रोहतक जिला,हरियाणा में हुआ था। वह एक जाट समुदाय से हैं।

साक्षी के पिता श्री सुखबीर मलिक डीटीसी में बस कंडक्टर हैं, तथा उनकी माता श्रीमती सुदेश मलिक एक आँगनवाड़ी कार्यकर्ता हैं। इनके भाई का नाम सचिन मलिक है और इनका विवाह सत्यव्रत कादियान जो कि एक पहलवान है, से हुआ।

साक्षी को बचपन से ही रेसलिंग से लगाव था। साक्षी के दादा जी बध्लू राम भी एक रेसलर थे। इन्ही को देखकर साक्षी के मन में भी रेसलर बनने की बात आई थी।

साक्षी ने अपनी पढाई की शुरुवात रोहतक के वैश्य पब्लिक स्कूल से पूरी की थी, इसके बाद वे रोहतक के DAV पब्लिक स्कूल भी गई। साक्षी ने अपने कॉलेज की पढाई रोह्तक के मह्रिषी दयानंद यूनिवर्सिटी से की थी।

मलिक ने रोहतक में महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय से शारीरिक शिक्षा में मास्टर डिग्री पूरी की है। सितंबर 2016 में, उन्हें विश्वविद्यालय के कुश्ती निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था।

साक्षी मलिक का करियर

साक्षी ने रेसलिंग की ट्रेनिंग 12 साल की उम्र से शुरू कर दी थी। इनके कोच ईश्वर दाहिया थे, जिनके साथ साक्षी ने रोहतक के अखारा में स्थित छोटू राम स्टेडियम से प्रैक्टिस शुरू की। ट्रेनिगं के दौरान साक्षी को बहुत सी चुनौती का सामना करना पड़ा, यहाँ सब बोलते थे ये खेल लड़कियों के लिए नहीं है।

इनके कोच ईश्वर दाहिया का भी वहां के लोग विरोध करते थे, क्यूंकि वे साक्षी को अपने अंडर में ट्रेनिंग दे रहे थे। इन सब के बाद भी साक्षी के परिवार वाले उसे पूरा सपोर्ट करते थे, वे अपनी बेटी के साथ खड़े हुए थे।

साक्षी की माँ उनको एक एथलीट बनाना चाहती थी, उनके हिसाब से रेसलिंग पुरुषों का खेल था, जिसे लड़कियां नहीं खेल सकती थी। एक बार वे गर्मियों में साक्षी को छोटू राम स्टेडियम ले गई, वहां वे चाहती थी कि साक्षी कुछ फिजिकल एक्टिविटी करे।

लेकिन साक्षी ने वहां कुश्ती को चुना और उसके गुर सिखने लगीं। शुरू में ये बात सुन उनकी माँ इस फैसले से खुश नहीं थी, लेकिन फिर अपनी बेटी की ख़ुशी के लिए वे मान गई।

साक्षी ने 12 वर्ष की उम्र में ट्रेनिंग शुरू की और फिर देश के बहुत से इवेंट में हिस्सा लेकर विजयी रही। अन्तराष्ट्रीय तौर पर साक्षी ने अपने जीवन का पहला खेल 2010 में जूनियर वर्ल्ड चैम्पियनशीप में खेला था। यहाँ उन्होंने 58 किलोग्राम केटेगरी में कांस्य पदक जीता था।

2014 में ही ग्लासगो कॉमनवेल्थ गेम्स में साक्षी ने क्वार्टर फाइनल जीता था। इसके बाद सेमीफाइनल में कैनेडा से 3-1 से विजयी रही। साक्षी का फाइनल मैच नाइजीरिया की एमिनेट से था, जिसे वे हार गई। यहाँ साक्षी को सिल्वर मैडल मिला।

इसके बाद सितम्बर 2014 में ताशकंद में वर्ल्ड चैम्पियनशीप मुकाबला हुआ। यहाँ साक्षी क्वार्टरफाइनल से ही बाहर हो गई थी, लेकिन सामने वाली टीम से साथ 16 राउंड तक वे लड़ती रहीं।

2015 में दोहा में एशियन चैम्पियनशीप हुई, इसमें 60 किलोग्राम के 5 राउंड हुए थे। यहाँ साक्षी ने 2 राउंड जीत कर तीसरा नंबर हासिल किया था और कांस्य पदक जीता था।

ओलम्पिक 2016 में साक्षी ने रेपचेज़ प्रणाली के तहत काँस्य पदक हासिल किया। साक्षी मलिक ने जनवरी 2017 में आयोजित प्रो रेसलिंग लीग के दूसरे संस्करण में ‘कलर्स दिल्ली सुल्तान्स’ का प्रतिनिधित्व किया।

2022 में उसने इस्तांबुल, तुर्की में आयोजित यासर डोगू टूर्नामेंट में भाग लिया। ट्यूनिस, ट्यूनीशिया में आयोजित 2022 ट्यूनिस रैंकिंग सीरीज़ इवेंट में उन्होंने अपने इवेंट में कांस्य पदक जीता।

इसके बाद उन्होंने कॉमन वैल्थ गेम 2022 के वूमेन 62kg वर्ग के फाइनल में कनाडा की एना गोंडिनेज को हरा के गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

साक्षी मलिक ओलम्पिक 2016 में

ओलम्पिक 2016 में साक्षी ने रेपचेज़ प्रणाली के तहत काँस्य पदक हासिल किया। इस मुकाबले में वे एक समय में 5 -0 से पीछे चल रहीं थी, किंतु शानदार वापसी करते हुए अंत में 7 -5 से मुकाबला अपने नाम कर लिया।

आखरी कुछ सेकंड में जो दो विजयी अंक उन्होंने जीते उसे प्रतिद्वंद्वी पक्ष द्वारा चैलेंज किया गया, लेकिन निर्णायकों ने अपना फैसला बरकरार रखा और असफल चैलेंज का एक और अंक साक्षी के खाते में जुड़ा। जिससे अंतिम स्कोर 8 -5 हो गया।

2016 के ओलंपिक में भारत का यह पहला पदक था। पदक जीतने के बाद उन्हें कई इनाम देने की घोषणा हुई। साथ में भारत सरकार ने 2016 में साक्षी को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से नवाजा।

साक्षी मलिक के जीवन पर आधारित किताब

साक्षी मलिक के जीवन पर (25 अन्य उल्लेखनीय व्यक्तित्वों के साथ) कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड द्वारा “ग्लोबल इंडियंस 2022” का तीसरा संस्करण प्रकाशित किया गया था। पुस्तक की पहली प्रति भारत के उपराष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू को भेंट की गई।

साक्षी मलिक का कॉमनवेल्थ गेम 2022 में प्रदर्शन

भारतीय पहलवान साक्षी मलिक ने शुक्रवार 5 अगस्त 2022 को बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों में महिला फ्रीस्टाइल 62 किग्रा में स्वर्ण पदक हासिल कर लिया है।

उन्होंने फाइनल में कनाडा की एना गोडिनेज गोंजालेज को हराया और क्वार्टर फाइनल में तकनीकी श्रेष्ठता के माध्यम से इंग्लैंड के केल्सी बार्न्स को 10-0 से हराया और फिर सेमीफाइनल में कैमरून के बर्थे एमिलियन एटेन नोगोले को तकनीकी श्रेष्ठता के माध्यम से 10-0 से हराया।

राष्ट्रमंडल खेल 2022 में स्वर्ण पदक जीतने के बाद पहलवान साक्षी मलिक ने कहा कि पदक समारोह में राष्ट्रगान बजने पर वह भावुक हो गईं।

साक्षी ने एएनआई को बताया, “इस बार मैं सिर्फ गोल्ड जीतना चाहती थी। मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया और मैं बहुत खुश हूं। मेरी जीत के बाद जब राष्ट्रगान बजाया गया तो मैं भावुक हो गई।”

साक्षी मलिक की उपलब्धियां

  • इन्होंने वर्ष 2016 में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेल में 58 किलोग्राम भार वर्ग में कांस्य पदक जीता।
  • वर्ष 2015 में इन्होंने एशियन चैंपियनशिप, दोहा में 60 किलोग्राम भार वर्ग में कांस्य पदक जीता।
  • वर्ष 2014 में इन्होंने राष्ट्रमंडल खेल 58 किलोग्राम भार वर्ग में रजत पदक जीता।
  • साक्षी अभी नार्थ रेलवे ज़ोन में कमर्शियल डिपार्टमेंट में कार्यरत है, रियो में ब्रोंज मैडल जीतने के बाद उनका प्रोमोशन हो गया और वे राजपत्रित पद के लिए वरिष्ठ अधिकारी बन गई।
  • साक्षी को भारतीय रेलवे की तरह से 3.5 करोड़ की राशी देने की घोषणा की गई।
  • हरियाणा राज्य की तरह से 2.5 करोड़ नगद और सरकारी नौकरी की पेशकश की गई है।
  • मध्यप्रदेश सरकार की तरफ से इन्हे 25 लाख नगद राशि की घोषणा की गई।
  • इसके अलावा इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन के द्वारा भी पुरुस्कार की घोषणा की गई है।
  • उन्हें अपने प्रायोजक JSW ग्रुप के लिए #everyWomanStrong नामक महिला दिवस अभियान में भी शामिल किया गया है।

साक्षी मलिक अवॉर्ड्स

  • भारत सरकार ने 2016 में साक्षी को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से नवाजा।
  • वर्ष 2017 में इन्हें पद्म श्री सम्मान से नवाजा गया।
  • इन्हे उत्तरप्रदेश सरकार की तरफ से रानी लक्ष्मीबाई पुरुस्कार से सम्मानित किया गया है।

साक्षी मलिक का रिकॉर्ड

वर्ष स्पर्धा मेडल
2013कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप, जोहांसबर्ग कांस्य पदक
2009एशियन जूनियर चैंपियनशिप, मनिलारजत पदक
2010जूनियर वर्ल्ड चैम्पियनशीपकांस्य पदक
2012एशियन जूनियर चैंपियनशिप, अल्माते स्वर्ण पदक
2016ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलकांस्य पदक
2017एशियन चैंपियनशिप, न्यू दिल्लीरजत पदक
2017कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप, जोहान्सबर्ग स्वर्ण पदक
2015एशियन चैंपियनशिप, दोहाकांस्य पदक
2014राष्ट्रमंडल खेल,ग्लास्गोरजत पदक
2018कॉमन वेल्थ गेम, गोल्ड कोस्टकांस्य पदक
2018एशियन चैंपियनशिप, बिश्केककांस्य पदक
2019एशियन चैंपियनशिप, चाइनाकांस्य पदक
2022कॉमन वेल्थ गेम, बर्मिंघमस्वर्ण पदक

साक्षी मलिक नेटवर्थ (Sakshi Malik Net Worth)

साक्षी मलिक की नेटवर्थ 1-5 मिलियन डॉलर के लगभग है।

साक्षी मलिक मैरिड

रियो ओलंपिक के तुरंत बाद एक साक्षात्कार में, मलिक ने कहा कि 2016 में बाद में एक साथी पहलवान सत्यव्रत कादियान से उनकी शादी होने वाली थी।

सत्यव्रत कादियान एक अंतरराष्ट्रीय स्तर के पहलवान भी हैं और उन्होंने एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीते हैं। साक्षी मलिक ने 2 अप्रैल, 2017 को भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवान सत्यव्रत कादियान से शादी की।

साक्षी मलिक सोशल मीडिया

Instagram Click Here
Twitter Click Here

साक्षी मलिक फोटो (Sakshi Malik photo)

Sakshi Malik 1
Image Credit : Instagram
Sakshi Malik 3
Image Credit : Instagram
Sakshi Malik 2
Image Credit : Instagram

FAQ :

Q : साक्षी मलिक का जन्म कब और कहां हुआ ?

Ans : साक्षी मलिक का जन्म 3 सितंबर 1992 को मोखरा गाँव के रोहतक जिला,हरियाणा में हुआ था।

Q : साक्षी मलिक के हस्बैंड का नाम क्या है ?

Ans : भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवान सत्यव्रत कादियान .

Q : साक्षी मलिक कहां की रहने वाली हैं ?

Ans : मोखरा गाँव के रोहतक जिला,हरियाणा .

Q : साक्षी मलिक का संबंध किस खेल से है ?

Ans : रेसलिंग (कुश्ती)

Q : साक्षी मलिक ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में कौन सा पदक जीता ?

Ans : स्वर्ण पदक

Q : साक्षी मलिक ने ओलंपिक पदक कब जीता ?

Ans : वर्ष 2016 में इन्होंने ग्रीष्मकालीन ओलंपिक गेम में कांस्य पदक जीता।

अन्य पोस्ट पढ़े :


Social Share

Leave a Comment

T20 में शतक जड़ने वाले भारतीय बल्लेबाज की लिस्ट गिल ने की ताबड़तोड़ बैटिंग कीवीयो के खिलाफ लगाया शतक भारत ने जीता अंडर-19 क्रिकेट महिला विश्व कप ICC के वर्ष के सर्वश्रेष्ठ T20 क्रिकेटर बने सूर्यकुमार भारतीय क्रिकेटर जिन्होंने बॉलीवुड अभिनेत्रियों से की शादी केएल राहुल और अथिया शेट्टी आज करेंगे शादी वनडे में दोहरा शतक लगाने वाले भारतीय खिलाड़ी Shubman Gill ने लगाया पहला एकदिवसीय दोहरा शतक