शरथ कमल अचंता का जीवन परिचय, टेबल टेनिस खिलाड़ी, उम्र, परिवार, नेटवर्थ | Sharath Kamal Achanta Biography In Hindi

Social Share

शरथ कमल अचंता का जीवन परिचय, टेबल टेनिस खिलाड़ी, उम्र, परिवार, नेटवर्थ, मेडल, कॉमनवेल्थ गेम, ओलंपिक गेम, रैंकिंग, अवार्ड, वाइफ, फादर, टि्वटर, इंस्टाग्राम, करियर, शिक्षा [Sharath Kamal Achanta Biography In Hindi] (Table Tennis Player, Age, Family, Net Worth, Medal, Commonwealth Game, Olympic Game, Ranking, Award, Wife, Father, Twitter, Instagram, Career, Education)

शरथ कमल अचंता एक भारतीय पेशेवर टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं। वह 10 बार सीनियर नेशनल चैंपियन बनने वाले पहले भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं। इसलिए इन्होने 8 बार के राष्ट्रीय चैंपियन कमलेश मेहता का रिकॉर्ड तोड़ दिया। 2019 में इन्हें भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म श्री (2019) से सम्मानित किया गया।

मई 2021 तक उनकी आईटीटीएफ विश्व रैंकिंग 32 है। शरत ने 2004 में कुआलालंपुर में आयोजित 16वीं राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस चैंपियनशिप में पुरुष एकल में स्वर्ण पदक जीता। वर्ष 2004 के लिए इन्हे अर्जुन पुरस्कार भी दिया गया। पिछले कुछ वर्षों से वह यूरोपीय लीग में खेल रहे है। स्पेन और स्वीडन में कार्यकाल के बाद, वह वर्तमान में क्लब बोरुसिया डसेलडोर्फ के लिए जर्मन बुंडेसलिगा में खेल रहे हैं।

वे ITTF प्रो टूर पर एकल खिताब जीतने वाले पहले भारतीय बन गए। उन्होंने भारतीय पुरुष टीम की कप्तानी भी की जिसने पसंदीदा और नौ बार के चैंपियन इंग्लैंड को हराकर उसी चैंपियनशिप में टीम का खिताब जीता। उन्होंने गोल्ड कोस्ट में 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में तीन पदक जीते, पुरुषों की टीम स्पर्धा में एंथोनी अमलराज, हरमीत देसाई, साथियान ज्ञानसेकरन और सानिल शेट्टी के साथ पुरुष युगल में रजत और पुरुष एकल स्पर्धा में कांस्य पदक जीते।

बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में जीता स्वर्ण पदक

Contents hide
5 (Sharath Kamal Achanta Family)
Sharath Kamal Achanta Win gold medal Birmingham Commonwealth Games 2022 image credit : instagram

शरथ कमल ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 बर्मिंघम में सोमवार (8 अगस्त) को टेबल टेनिस में पुरुष एकल वर्ग के फाइनल में इंग्लैंड के लियाम पिचफोर्ड को 4-1 से हराकर भारत के लिए स्वर्ण पदक जीता।

शरथ पहले गेम में हार गए लेकिन अन्य चार गेम में वापसी करते हुए अंतिम 11-13, 11-7, 11-2, 11-6, 11-8 से जीतकर 16 साल बाद पोडियम पर शीर्ष पर रहे। यहाँ भारत की पुरुष टेबल टेनिस टीम ने सिंगापुर को हराकर देश का 5 वां स्वर्ण जीता।

शरत का इन खेलों में यह कुल 13वां पदक है। उन्होंने बर्मिंघम खेलों में चार पदक जीते। जिसमें इस स्वर्ण से पहले टीम स्पर्धा, मिश्रित युगल में श्रीजा अकुला के साथ स्वर्ण और पुरुष युगल में रजत पदक शामिल है।

शरथ कमल अचंता का जीवन परिचय

(Sharath Kamal Achanta Biography In Hindi)

नाम (Name) शरथ कमल अचंता
(Sharath Kamal Achanta)
जन्म (Birth) 12 जुलाई 1982
जन्म स्थान (Birth Place) चेन्नई, तमिलनाडु
गृहनगर (Hometown) चेन्नई, तमिलनाडु
उम्र (Age) 40 साल
हाइट (Height) 1.86 मीटर (6 फीट 1 इंच)
वेट (Weight) 82 kg
पेशा (Profession) टेबल टेनिस खिलाड़ी
खेल शैली (Playing Style) दाहिने हाथ, शेकहैंड ग्रिप
स्कूल (School) पद्म शेषाद्री बाला भवन, स्कूल
कॉलेज (College) चेन्नई के लोयला, कॉलेज
शैक्षिक योग्यता (Educational Qualification) B.COM
कोच (Coach) देजन पापिक,
श्रीनिवास राव (पिता)और ए मुरलीधर राव (चाचा)
आईटीटीएफ विश्व रैंकिंग (ITTF World Ranking) 32 (May 2021)
करंट रैंकिंग (current ranking) 39 (August 2022)
वैवाहिक स्थिति (Marital Status) विवाहित
शादी की तारीख (Marriage Date) 27 जुलाई 2009
धर्म (Religion) ज्ञात नहीं
राष्ट्रीयता (Nationality) भारतीय

शरथ कमल अचंता का परिवार

(Sharath Kamal Achanta Family)

पिता (Father’s Name) श्रीनिवास राव (पूर्व टेबल टेनिस खिलाड़ी और कोच)
माता (Mother’s Name) अन्नपूर्णा राव
चाचा (Uncle) मुरलीधर राव
भाई (Brother) राजथ कमल
बहन (Sister) ज्ञात नहीं
वाइफ (Wife) श्रीपूर्णी राव
बच्चे (Children) एक बेटी और एक बेटा
Sharath Kamal Achanta family

शरथ कमल अचंता का जन्म, शिक्षा

इनका जन्म 12 जुलाई 1982 को चेन्नई, तमिलनाडु में हुआ। वर्तमान में वे डसेलडोर्फ, जर्मनी में रहते है।

इन्होंने पद्म शेषाद्री बाला भवन, स्कूल नुंगमबक्कम और लोयोला कॉलेज, चेन्नई से शिक्षा प्राप्त की। इन्होने B.COM किया है। वह इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन में एक अधिकारी के रूप में कार्यरत हैं।

शरथ कमल अचंता का प्रारंभिक जीवन

शरथ को उनके पिता ने 4 साल की उम्र में टेबल टेनिस से परिचित कराया था। शरथ के पिता ने उनके चाचा मुरलीधर राव के साथ उन्हें खेल की तकनीकी सिखाई। उनके पिता और चाचा दोनों राज्य स्तर के खिलाड़ी और राष्ट्रीय स्तर के कोच थे।

शरथ के चाचा ने उसके लिए एक सख्त नियम बनाया था, ताकि वह अपनी हताशा से निपट सके। वह हर दिन स्कूल से पहले और बाद में अपने चाचा के साथ टेबल टेनिस का अभ्यास करने में अपना समय बिताते थे।

शरथ कमल अचंता का करियर (Career)

16 साल की उम्र में शरथ कमल ने अपने पेशेवर करियर की शुरुआत की और राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में भाग लिया। पेशेवर टेबल टेनिस में कदम रखने के बाद से सरथ कमल हमेशा शीर्ष रूप में रहे हैं।

स्टेट मीट में अपनी सफलता के बाद शरथ राष्ट्रीय स्तर पर आगे बढ़े। उन्होंने 2002 में भारत के राष्ट्रीय खेलों में एकल और मिश्रित युगल स्पर्धाओं में कांस्य पदक जीता और टीम स्पर्धा में एक स्वर्ण पदक जीता। शरथ कमल 2002 में सीनियर राष्ट्रीय चैंपियनशिप के फाइनल में हार गए। 2003 में शरथ पहली बार राष्ट्रीय टेबल टेनिस चैंपियनशिप में राष्ट्रीय चैंपियन बने।

उन्होंने 2004 में फिर से राष्ट्रीय जीत हासिल की। ​​2006 से 2010 तक कमल ने लगातार पांच बार सीनियर नेशनल जीते। 2007 के राष्ट्रीय खेलो में शरथ ने 4 स्वर्ण पदक जीते। उन्होंने सिंगल्स फाइनल में सौरव चक्रवर्ती को हराया। उन्होंने और सुभाजीत साहा ने युगल फाइनल में सौरव चक्रवर्ती और अनिर्बान नंदी को हराया।

उन्होंने सुभाजीत साहा और नंदिता साहा को हराकर पॉलोमी घटक के साथ मिश्रित युगल का स्वर्ण पदक जीता। टीम स्पर्धा में उनकी टीम पीएसपीबी ने आरएसपीबी को हराया। 2009 में उन्होंने सौरव चक्रवर्ती को हराकर फिर से टीम स्पर्धा और एकल स्वर्ण जीता। उन्होंने सुभाजीत साहा के साथ युगल स्पर्धा में कांस्य पदक भी जीता। उन्होंने 7 गेम के रोमांचक मैच में सौम्यदीप रॉय को हराकर 2010 में फिर से एकल खिताब जीता।

2011 में उन्होंने टीम इवेंट में गोल्ड जीता था। लेकिन वह एकल फाइनल में एंथनी अमलराज से हार गए। 2012 में वह 74 वें वरिष्ठ नागरिकों के फाइनल में युवा सौम्यजीत घोष से हार गए। लेकिन पीएसपीबी के साथ टीम इवेंट जीता। वह 2013-14 के राष्ट्रीय स्तर पर सेमीफाइनल में हरमीत देसाई से हार गए। लेकिन फिर से टीम इवेंट जीतने में कामयाब रहे।

2015-16 के नेशनल्स में वह सेमीफाइनल में सीधे गेम में साथियान ज्ञानसेकरन से हार गए। उन्होंने 2018-19 के नेशनल्स में साथियान को 4-3 से हराकर अपना नौवां राष्ट्रीय खिताब जीता और महान कमलेश मेहता के 8 खिताबों के रिकॉर्ड को पार करने वाले पहले खिलाड़ी बन गए। उन्होंने टीम इवेंट का गोल्ड भी जीता। लेकिन साथियान ने 2020-21 के फाइनल में उन्हें हराकर बदला लिया। शरथ ने एकल फाइनल में साथियान को हराकर 2021-22 में अपना 10वां खिताब जीता।

इनके लिए राष्ट्रीय कॉल-अप 2002 के राष्ट्रमंडल खेलों की पूर्व संध्या पर आया। जहां उन्हें 16-सदस्यीय संभावित प्रशिक्षण शिविर के लिए चुना गया था। शरथ कमल को 20 साल की उम्र में अपना करियर शुरू करने के लिए ब्रेक की जरूरत थी। हालांकि उन्हें मुख्य टीम के लिए नहीं चुना गया था।

शिविर के अनुभव ने उन्हें आत्मविश्वास दिया और शीर्ष स्तर के खिलाड़ियों के संपर्क ने उन्हें बेहतर बना दिया। शरथ कमल ने 2002 में सीनियर राष्ट्रीय चैंपियनशिप के फाइनल में जगह बनाई, हालांकि वह हार गए। उन्हें जल्द ही राष्ट्रीय टीम में शामिल कर लिया गया।

शरथ कमल अचंता विश्व चैंपियनशिप 2003

शरथ को चेतन बाबर और सौरव चक्रवर्ती के साथ 2003 विश्व टेबल टेनिस चैंपियनशिप के लिए चुना गया था। यह उनकी पहली विश्व चैंपियनशिप थी और उनका पहला बड़ा टूर्नामेंट था। उन्होंने पहले ग्रुप स्टेज मैच में ताहिती के सिल्वेन मोताहू को 11-3, 11-3, 11-4, 11-7 से हराया। यह उनकी पहली विश्व चैंपियनशिप जीत थी।

उन्होंने चेतन बाबर के साथ पुरुष युगल के पहले दौर के मैच में सैंटोगो कोस्टे और प्यूर्टो रिको के हेक्टर बेरियोस को 9-11, 11-7, 11-6, 11-4 से हराया। इसके बाद उन्होंने लिथुआनिया के आर्टुरास ओर्लोवास पर सीधे गेम में जीत हासिल की, 11-4, 11-4, 13-11, 12-10 से जीतकर मुख्य ड्रॉ के लिए क्वालीफाई किया।

उन्होंने फ्रांस के 57वीं रैंकिंग वाले क्रिस्टोफ लेगआउट के खिलाफ शानदार शुरुआत की और शुरुआती गेम 11-2 से जीत लिया। लेकिन फ्रेंचमैन ने शुरुआती हिचकी पर काबू पाकर अगले चार गेम आराम से जीतकर मैच 4-1 से जीत जीतकर शरथ के अभियान को समाप्त कर दिया।

ओलंपिक 2004, दक्षिण एशियाई खेल और राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप

शरथ को 2004 विश्व टीम टेबल टेनिस चैंपियनशिप के लिए चुना गया था। स्लोवेनिया के खिलाफ पहले मैच में उन्होंने एस इग्नजाटोविक को 3-2 (4-11 12-10 11-9 6-11 11-8) से हराया, क्योंकि भारत ने स्लोवेनिया को 3-2 से हराकर अपना खाता खोला। भारत अपना अगला मैच स्लोवाकिया से हार गया।

अगले मैच में पुर्तगाल के खिलाफ उन्होंने जोआओ मोंटेरो के खिलाफ सीधे गेम 4-0 में आसानी से अपना मैच जीत लिया। क्योंकि भारत ने आराम से 3-0 से मैच जीत लिया। उन्होंने एल सैयद लशिन को 3-2 (10-12, 3-11, 11-8, 15-13, 11-8) और एस दिया को 3-2 (7-11, 11-9, 9-11) से हराया।

शरत कमल को 2004 के दक्षिण एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया था। यह उनका दक्षिण एशियाई खेलों में पदार्पण था। उन्होंने टीम स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीता, क्योंकि भारत ने स्वर्ण पदक मैच में पाकिस्तान को 3-0 से हराया।उन्होंने अखिल भारतीय फाइनल में 3-1 (8-11, 11-7, 11-9, 11-10) के स्वर्ण पदक मैच में हमवतन रॉय और मंटू घोष को हराकर विशाखा विजय के साथ मिश्रित युगल स्वर्ण पदक जीता।

उन्होंने एक अखिल भारतीय फाइनल में हमवतन सुभाजीत साहा और रणबीर दास को हराया। शरथ को सिंगल्स में चौथा गोल्ड नहीं मिला। वह नेपाल के राजेंद्र कपाली और श्रीलंका के पियादासा थिलिना लकनाथ को सीधे गेमों में हराकर एकल फाइनल में पहुंचे। लेकिन फाइनल में हमवतन सौम्यदीप रॉय से हार गए।

शरथ का पहला अंतरराष्ट्रीय एकल स्वर्ण पदक 2004 राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस चैंपियनशिप में आया था। जहां उन्होंने पुरुष एकल में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने पुरुषों की टीम स्पर्धा भी जीती, जहां उनकी टीम ने फाइनल में इंग्लैंड को 3-1 से हराया। उन्होंने 2004 के ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया।

जिसने उनके करियर ग्राफ में एक नई ऊंचाई दी। अपने ओलंपिक पदार्पण में उन्होंने सीधे गेम में पहले दौर में अल्जीरिया के मोहम्मद सोफियाने बौद्जादजा को हराया, लेकिन दूसरे दौर में सीधे गेम में हांगकांग के को लाई चक से हार गए।

शरथ कमल अचंता 2006 राष्ट्रमंडल खेल और एशियाई खेल

शरथ ने राष्ट्रमंडल खेलों में पदार्पण 2006 के राष्ट्रमंडल खेलों में किया था। उन्होंने सेमीफाइनल में सेगुन तोरियोला को सीधे गेम में हराकर फाइनल में प्रवेश किया। उन्होंने 40 मिनट के रोमांचक मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के विलियम हेनजेल को 4-3 से हराकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

वह राष्ट्रमंडल खेलों में टेबल टेनिस स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय बने। उन्होंने पुरुषों की टीम स्पर्धा में भी स्वर्ण पदक जीता जहां उनकी टीम ने फाइनल में सिंगापुर को 3-2 से हराया। यह भारतीय टीम का पहला कॉमनवेल्थ गोल्ड था।

दिसंबर में शरथ ने 2006 के एशियाई खेलों में एशियाई खेलों की शुरुआत की। उन्होंने राउंड ऑफ 32 में वियतनाम के oàn Kiến Quốc को 11–6,11-7,13-15,11-5,11-9 से हराया। युगल में शरथ बाहर हो गए। वर्ष 2007 में वह उत्तर कोरिया के प्योंगयांग में आयोजित प्योंगयांग आमंत्रण टूर्नामेंट जीतने वाले पहले भारतीय थे।

यह टूर्नामेंट का 21वां संस्करण था जो अगस्त 2007 में आयोजित किया गया था। विश्व सर्किट पर उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन जून 2007 में आयोजित जापान प्रो टूर में आया था जहां उन्होंने विश्व नंबर 19, ली जंग वू (दक्षिण कोरिया) को हराया था।

शरथ ने 2008 ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया। उन्होंने पहले दौर में स्पेन के अल्फ्रेडो कार्नरोस को 4-2 से हराया। लेकिन ऑस्ट्रिया की चेन वेक्सिंग से 1-4 से हार गए।शरथ ने 2020 ITTF चैलेंजर प्लस ओमान ओपन पुरुष एकल खिताब जीता। उन्होंने एक घंटे के फाइनल में पुर्तगाल के शीर्ष वरीयता प्राप्त मार्कोस फ्रीटास को 6-11, 11-8, 12-10, 11-9, 3-11, 17-15 से मात दी। 10 साल में यह उनका पहला खिताब था।

शरथ कमल अचंता ओलंपिक 2021

मार्च 2021 में शरथ डब्ल्यूटीटी स्टार कंटेंडर दोहा में खेले, जहां उन्होंने 32 के राउंड में पैट्रिक फ्रांज़िस्का को परेशान किया। लेकिन अगले दौर में सीधे गेम में दिमित्रिज ओवचारोव से 3-0 से हार गए।

उन्होंने पहली बार ग्रैंड स्मैश, सिंगापुर स्मैश 2022 में भाग लिया। उन्होंने डब्ल्यूटीटी दावेदार दोहा 2022 में कांस्य जीता।

Sharath Kamal Achanta image credit : instagram

शरथ कमल अचंता मेडल (Medal)

कॉमन वेल्थ गेम :

वर्ष स्पर्धा पदक स्थान
2006 पुरुष एकल स्वर्ण मेलबर्न
2006 पुरुष टीम स्वर्ण मेलबर्न
2010 पुरुष युगल स्वर्ण दिल्ली
2010 पुरुष टीम कांस्य दिल्ली
2010 पुरुष एकल कांस्य दिल्ली
2014 पुरुष युगल रजत ग्लास्गो
2018 पुरुष टीम स्वर्ण गोल्ड कोस्ट
2018 पुरुष युगल रजत गोल्ड कोस्ट
2018 पुरुष एकल कांस्य गोल्ड कोस्ट
2022 पुरुष एकल स्वर्ण बर्मिंघम
2022 मिक्स डबल स्वर्ण बर्मिंघम
2022 पुरुष टीम स्वर्ण बर्मिंघम
2022 पुरुष युगल रजत बर्मिंघम

एशियन गेम :

वर्ष स्पर्धा पदक स्थान
2018 पुरुष टीम कांस्य जकार्ता
2018 पुरुष युगल कांस्य जकार्ता

एशियन चैंपियनशिप :

वर्ष स्पर्धा पदक स्थान
2021 पुरुष टीम कांस्य दोहा
2021 पुरुष युगल कांस्य दोहा

शरथ कमल अचंता अवॉर्ड (Award)

  • टेबल टेनिस के लिए अर्जुन पुरस्कार – 2004
  • पद्म श्री – 2019

शरथ कमल अचंता नेटवर्थ

फोर्ब्स और बिजनेस इनसाइडर के अनुसार, उनका नेट वर्थ 1 मिलियन से 5 मिलियन डॉलर है। शरत सबसे अमीर टेबल टेनिस खिलाड़ियों में से एक है। उनका नाम टेबल टेनिस खिलाड़ियों के टॉप 10 लिस्ट में आता है।

शरथ कमल अचंता सोशल मीडिया

(Sharath Kamal Achanta Social Media)

Twitter Click Here
Instagram Click Here

FAQ :

Q : शरथ कमल अचंता कि 2022 में कोन सी रैंकिंग है ?

Ans : 39 (August 2022)

q : शरथ कमल अचंता की वाइफ का नाम क्या है ?

Ans : श्रीपूर्णी राव

Q : शरथ कमल अचंता की उम्र कितनी है ?

Ans : 40 वर्ष

Q : शरथ कमल अचंता के पिता का नाम क्या है ?

Ans : श्रीनिवास राव (पूर्व टेबल टेनिस खिलाड़ी और कोच)

Q : शरथ कमल अचंता ने कॉमनवेल्थ गेम 2022 बर्मिंघम में कौन सा पदक जीता ?

Ans : स्वर्ण पदक

अन्य पोस्ट पढ़े :


Social Share

Leave a Comment

जानिए रविंद्र जडेजा क्यों हुए वर्ल्ड कप से बाहर लाइगर फिल्म अभिनेत्री अनन्या पांडे फैक्ट मीराबाई चानू ने जीता बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक Actress Tara Sutaria Biography, Age, Height, Family, Moveis, Networth भारती और हर्ष पहली बार नजर आए अपने बेबी के साथ जानिए बेबी का नाम बॉलीवुड की हॉट एक्ट्रेस दिशा पाटनी के बारे में जाने