प्रफुल्ल बिलौरी (MBA Chaiwala) का जीवन परिचय | Prafull Billore Biography in Hindi

Social Share

प्रफुल्ल बिलौरी (MBA Chaiwala) का जीवन परिचय, उम्र, परिवार, पत्नी, जाति, एमबीए चाय वाला, सैलरी / नेटवर्थ, [Prafull Billore Biography](MBA Chai Wala ,Birth Place, Age, Family,Wife, Caste, Salary, Networth, Instagram)

दोस्तों आज मैं आपको एक ऐसे युवा उद्यमी की के बारे में बताने जा रहा हूं , जिन्होंने मात्र 25 वर्ष की आयु में ही अपने सफल करियर की बुनियाद बना डाली। में जिनके बारे में बात कर रहा हूं उनका नाम प्रफुल्ल बिलोरी है , वे एमबीए चाय वाला ब्रांड के संस्थापक हैं । इनके जीवन की कहानी में सपने , संघर्ष और सफलता देखने को मिलती है । एक आम युवा से खास बनने तक का सफर बहुत ही शानदार और मेहनत भरा रहा है । इन्होंने इतनी कम उम्र में एक ऐसा नाम कमाया है जो आप सबकी जुबां पर है लोग इन्हें एमबीए चायवाला के नाम से जानते हैं आइए जानते हैं प्रफुल्ल बिलारी के बारे में ।

प्रफुल्ल बिलौरी (MBA Chaiwala) का जीवन परिचय

Prafull Billore MBA chai wala
Prafull Billore image credit : social media
नाम (Name) प्रफुल्ल बिलौरी (Prafull Billore)
निक नेम (Nick Name) प्रफुल्ल
जन्म (Birth) 14 जनवरी 1996
जन्म स्थान (Birth Place) धार , इंदौर ( मध्य प्रदेश )
उम्र (Age) 25 वर्ष
पिता (Father’s name) पंडित सोहन बिलोरी
भाई (Brother) विवेक
बहन (Sister)
पेशा (Profession) बिजनेसमैन , एमबीए चायवाला
(Young Entrepreneur)
जाति (Caste) ब्राह्मण
धर्म (Religion) हिंदू
राष्ट्रीयता (Nationality) भारतीय
वैवाहिक स्थिति (Marital status) अविवाहित
नेटवर्थ
(Networth)
3 से 5 करोड़ (लगभग )
प्रारंभिक जीवन

प्रफुल्ल प्रफुल्ल बिलोरी एक सामान्य परिवार से ताल्लुक रखते हैं । इनका जन्म धार इंदौर मध्यप्रदेश में हुआ था , इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा यहीं से की पूरी की । प्रफुल्ल एमबीए MBA (Master Of Business Administration ) करना चाहते थे जिसके लिए वे अहमदाबाद आ गए । प्रफुल्ल एक अच्छे कॉलेज से एमबीए करने के लिए वर्ष 2016-17 के दौरान कैट और जीमेट की परीक्षा के लिए बहुत मेहनत की। लेकिन वह इस परीक्षा में पास होने में असफल रहे ।

एमबीए चायवाला की सफलता की कहानी

प्रफुल्ल का जन्म इंदौर मध्यप्रदेश में हुआ था। वे बचपन से ही अपने जीवन में कुछ बड़ा करने की चाह रखते थे । उनका सपना था कि आप बड़े होकर एमबीए करें और किसी बड़ी कंपनी में जॉब करें । जिसके लिए उनके परिवार का उन्हें भरपूर सहयोग भी मिला । वह एमबीए किसी बड़े संस्थान से करना चाहते थे , जिसके लिए उन्होंने आईआईएम अहमदाबाद से एमबीए करने के लिए कैट की तैयारी करना प्रारंभ कर दिया । लगातार तीन वर्षों तक प्रयास करने के बाद वे कैट की परीक्षा को पास करने में असफल रहे।

तीन बार के प्रयास में भी सफलता ना मिलने के बाद प्रफुल्ल ने कैट की तैयारी करना छोड़ दिया । इसके बाद उनके जीवन का नया अध्याय प्रारंभ हुआ । एक सफर पर निकल पड़े सबसे पहले भी दिल्ली से गुडगांव हरिद्वार बेंगलुरु चेन्नई और अंत में अहमदाबाद आकर अपने सफर को रोक दिया और यहीं से एमबीएस चाय वाले की कहानी प्रारंभ हुई उन्हें अहमदाबाद का माहौल बहुत अच्छा लगा ।

प्रफुल्ल ने मैकडोनाल्ड में भी जॉब की। उनके मैकडोनाल्ड मैं जॉब करने की बड़ी रोचक कहानी है उन्होंने बताया जब मैकडोनाल्ड में जॉब करने के लिए गए तो उन्हें शुरुआत में नौकरी नहीं मिली उन्होंने तीन चार जगह नौकरी के लिए प्रयास किया। लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी।

अंततः उन्होंने इसका भी समाधान निकाल लिया जब वे पांचवीं बार जॉब के लिए मैकडोनाल्ड गए तो उन्होंने झूठ बोला कि वह ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं है और एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं उन्हें नौकरी की सख्त आवश्यकता है। इसके बाद उन्हें मैकडोनाल्ड में ₹37 प्रति घंटा के हिसाब से उन्हें वेटर की जॉब मिल गई।

प्रफुल्ल बहुत महत्वकांक्षी रहे है , उन्हें सीखने का बहुत शौक है । वे अपने जीवन में कुछ करना चाहते थे और इसी सोच को रखते हुए उन्होंने अपनी जॉब के साथ अपना अलग कुछ करना चाहा । इसके लिए उन्होंने चाय का काम खोलने का निर्णय लिया । उन्होंने निर्णय तो ले लिया था लेकिन उसे धरातल पर उतारना एक चुनौती थी ।

शुरुआती दिनों में परेशानियां झेलने के बाद उन्होंने अपने काम को धीरे-धीरे रफ्तार देना शुरू कर दिया । उन्होंने चाय ठेले पर चाय बनाकर भेजना प्रारंभ किया , वह सुबह 9:00 से शाम 3:00 तक मैकडोनाल्ड में जॉब करते और शाम 6:30 से रात 12:00 बजे तक अपने चाय का ठेला लगा कर चाय बेचा करते थे । उन्होंने बताया कि उन्होंने पहले दिन ₹300 की चाय का बिजनेस किया।

इस बीच उनके परिवार से भी उन्हें दबाव बनाया जा रहा था कि यह मैकडोनाल्ड छोड़कर किसी प्राइवेट कॉलेज में एमबीए की पढ़ाई कर ले परिवार की बात मानते हुए उन्होंने एमबीए के लिए एडमिशन तो ले लिया लेकिन 600 दिन पढ़ाई करने के बाद एमबीए छोड़ दिया और परिवार को इस विषय में कुछ नहीं बताया।

इसके बाद उन्होंने अपने चाय का काम जारी रखा और धीरे-धीरे उनका काम बढ़ता चला गया। उन्होंने अपनी शॉप का नाम बिलोरी रखा लेकिन कुछ समय बाद उन्होंने अपनी दुकान का नाम बदलकर एमबीए चायवाला रख दिया ।

MBA chai wala outlate

अपनी मेहनत और लगन से प्रफुल्ल ने अपने चाय के बिजनेस को आगे बढ़ाने की ठानी वे उस बुलंदियों तक ले जाने में अब तक सक्षम साबित हुए हैं । आज भारत में उनके 20 से ऊपर आउटलेट हैं और उन्होंने बताया कि अब भारत के बाहर भी अपने आउटलेट खोलने की तैयारी कर रहे हैं । उनकी बिजनेस का टर्नओवर लगभग 5 करोड़ के आसपास हो गया है और आने वाले दिनों में वे इसे और बढ़ाने की कोशिश में कार्यरत हैं। इसके अलावा है युवाओं के प्रेरणा स्रोत बन कर उभरे हैं । युवा उनसे प्रेरणा लेकर उद्यमिता की ओर अपने कदम बढ़ा रहे हैं जिसमें वे उन्हें एक मेंटर के तौर पर सलाह भी देते हैं और बिजनेस की बारी को को समझाते हैं ।

आज हमने युवा उद्यमी प्रफुल्ल बिलोरी से बहुत कुछ सीखने को मिला है। हमें जो भी कार्य अपने जीवन में करना है, उसके प्रति हमें शत प्रतिशत समर्पित होकर कार्य करना है। अपने कार्य पर पूरा फोकस करना है आपको सफलता निश्चित तौर पर मिलेगी।

प्रफुल्ल बिलोरी सोशल मीडिया (Social Media)

FAQ :

Q : प्रफुल्ल बिलोरी कौन है ?

Ans : प्रफुल्ल बिलोरी एक युवा उद्यमी है, वह चाय का बिजनेस करते हैं। इनका जन्म 14 जनवरी 1996 धार, इंदौर (मध्य-प्रदेश) में हुआ था। इनके पूरे भारत में जगह-जगह आउटलेट है, इसके साथ ही इन्होने भारत के बाहर भी अपने आउटलेट खोलें हैं। ये अपनी फ्रेंचाइजी भी देते हैं।

Q : प्रफुल्ल बिलोरी की उम्र कितनी है ?

Ans : 25 वर्ष

Q : प्रफुल्ल बिलोरी का जन्म कब और कहां हुआ ?

Ans : 14 जनवरी 1996 धार , इंदौर ( मध्य प्रदेश )

अन्य पोस्ट पढ़े :


Social Share

Leave a Comment

वर्ल्ड कप में चमका सूर्या का बल्ला भारत पहुंचा सेमीफाइनल में रिचा चड्ढा और अली फजल ने किया वेडिंग सेलिब्रेशन जानिए रविंद्र जडेजा क्यों हुए वर्ल्ड कप से बाहर लाइगर फिल्म अभिनेत्री अनन्या पांडे फैक्ट मीराबाई चानू ने जीता बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक तारा सूतारिया बायोग्राफी हाइट मूवी भारती और हर्ष पहली बार नजर आए अपने बेबी के साथ जानिए बेबी का नाम बॉलीवुड की हॉट एक्ट्रेस दिशा पाटनी के बारे में जाने