दीपिका कुमारी भारत की सर्वश्रेष्ठ महिला तीरंदाज की जीवनी |Dipika Kumari Biography In Hindi , Archer, Husband name

Social Share

दीपिका कुमारी Dipika Kumari एक राष्ट्रीय स्तर की लोकप्रिय भारतीय तीरंदाज है। दीपिका का जन्म झारखण्ड राज्य के एक छोटे से गांव रातू चिट्टी में हुआ था जो रांची से 14 किमी की दुरी पर स्थित है । दीपिका भारत की सर्वश्रेष्ठ महिला तीरंदाज Archer होने के साथ ही वर्तमान में दीपिका विश्व की नंबर एक तीरंदाज है ।

व्यक्तिगत जानकारी :

नाम दीपिका कुमारी Dipika kumari
पूरा नाम दीपिका कुमारी महतो
जन्म 13 जून 1994
जन्म स्थान रातू चट्टी गांव ( झारखण्ड )
आयु 27 साल
पिता शिवनारायण महतो
माता गीता महतो
पेशा तीरंदाजी
ऊंचाई 1.6 मी
वजन 56 kg
वैवाहिक स्थिति विवाहित
विवाह तिथि 30 जून 2020
पति अतनु दास
धर्म हिन्दू
राष्ट्रीयता भारतीय
दीपिका इंस्टाग्राम dkumari.archer

दीपिका कुमारी की जीवनी :

दीपिका का जन्म 13 जून 1994 को झारखंड के छोटे से गांव रातू चट्टी में हुआ था। इनके पिता शिवनारायण महतो एक ऑटो रिक्शा चालक थे और इनकी माता एक मेडिकल कॉलेज में नर्स के रूप में कार्यरत थी। दीपिका एक मध्यम परिवार से ताल्लुक रखती थी । दीपिका को बचपन से ही निशाना लगाने का बहुत शौक था और उन्होंने बहुत छोटी उम्र से ही तीरंदाजी को अपना अपने करियर के रूप में चुन लिया था , जिसके लिए उन्होंने बहुत मेहनत की उनके परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर होने और संसाधनों का अभाव होने के बावजूद भी दीपिका ने अपने लक्ष्य के प्रति अडिग रही। जब उनके पास अभ्यास के लिए साधन मौजूद नहीं थे तब उन्होंने अपने लक्ष्य के लिए आमों का सहारा लिया और धनुष बाण के स्थान पर पत्थरों से आमों पर निशाना लगाकर अभ्यास किया।

दीपिका ने पहली बार झारखंड के रायकेला तीरंदाजी प्रतियोगिता में भाग लिया था जिसमें उन्हें सफलता नहीं मिली और वे निराश भी हुई लेकिन इसके बाद उनके पिता ने दीपिका का उत्साहवर्धन करते हुए पुनः प्रतियोगिता मैं भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया।

टाटा तीरंदाजी अकादमी में प्रवेश :

दीपिका कुमारी ने अपने करियर की शुरुआत 2005 में अर्जुन मुंडा अकादमी में प्रवेश लेकर की यह अकादमी झारखंड के मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा की पत्नी मीरा मुंडा ने अपने गृह जनपद खरसावां में स्थापित की थी। यहाँ प्रवेश लेकर दीपिका ने प्रशिक्षण लेना प्रारम्भ कर दिया। इसके बाद दीपिका ने जमशेदपुर में टाटा तीरंदाजी अकादमी में प्रवेश लेकर तीरंदाजी के अपने पेशेवर खेल की शुरुआत की ।

टाटा तीरंदाजी अकादमी में प्रवेश के बाद उन्होंने उचित उपकरणों के साथ अपने प्रशिक्षण को प्रारंभ किया इससे उनके तकनीकी कौशल के विकास को सुधारने में मदद मिली जिससे उनके खेल में दिन पर दिन सुधार होता गया अपने प्रशिक्षण के 3 साल के दौरान दीपिका अपने घर 2009 में हुए कैडेट विश्वकप चैंपियनशिप जीतने के बाद केवल एक बार लौटी यह उनका अपने खेल के प्रति रुझान ही था जिसने दीपिका को विश्व की नंबर एक महिला तीरंदाज बनाया ।

दीपिका कुमारी की उपलब्धियां :

  • वर्ष 2009 में अमेरिका के ओक्डेन मैं हुई ग्यारहवीं यूथ वर्ल्ड तीरंदाजी चैंपियनशिप में दीपिका ने जीत हासिल की। उस समय वह मात्र की 15 वर्ष की थी।
  • तीरंदाजी विश्व कप 2009 में ही दीपिका ने डोला बनर्जी और बोम्बायला देवी के साथ महिला टीम रिकर्व प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता था।
  • 2010 में दिल्ली में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में दीपिका ने दो स्वर्ण पदक जीते पहला स्वर्ण पदक व्यक्तिगत प्रतियोगिता में और दूसरा महिला टीम रिकॉर्ड इवेंट में जीता ।
  • 2012 में दीपिका ने तुर्की के अंताल्या में अपना पहला विश्व कप सिंगल स्टेज रिकर्व में गोल्ड मेडल जीता इसके बाद वे विश्व तीरंदाजी की रैंकिंग में प्रथम स्थान पर पहुंच गई थी।
  • 2013 में कोलंबिया में आयोजित तीरंदाजी विश्व कप में दीपिका ने स्वर्ण पदक जीता ।
  • 2013 के FITA विश्व तीरंदाजी कप में दीपिका ने सिल्वर पदक जीता।
  • 2015 के कोपनहेगन विश्व कप में चैंपियनशिप में लक्ष्मी रानी मांझी और रिमिल बुरुली के साथ मिलकर दीपिका ने रजत पदक जीता।
  • 2016 में दीपिका ने शंघाई में हुए विश्व कप के पहले चरण में इतिहास रचते हुए रिकर्व इवेंट की बो – बेई के विश्व रिकॉर्ड (686 /720 ) की बराबरी की।
  • दीपिका कुमारी 2016 रियो ओलंपिक में महिला रिकर्व टीम का हिस्सा थी। जिसमें इनके साथ बोम्बायला देवी लेसराम और लक्ष्मीरानी मांझी थे रियो ओलंपिक में इन्होंने क्वालीफाई किया था जिसमें इन्हें 7 वी रैंक हासिल हुई।
  • दीपिका कुमारी ने नवंबर 2019 में बैंकॉक में 21वीं एशियाई तीरंदाजी चैंपियनशिप के इतर आयोजित होने वाले कॉन्टिनेंटल क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट में ओलंपिक कोटा हासिल किया।

आर्चरी वर्ल्ड कप (Archery World Cup) 2021 पेरिस में दीपिका का प्रदर्शन :

हाल ही में संपन्न हुए पेरिस विश्व तीरंदाजी कप 2021 में दीपिका ने तीन गोल्ड मेडल जीते उन्होंने पहला गोल्ड महिला रिकर्व टीम के साथ मिलकर जीता दूसरा गोल्ड उन्होंने मिक्सड डबल में अपने पति अतनु दास के साथ मिलकर जीता और तीसरा गोल्ड उन्होंने व्यक्तिगत स्पर्धा मैं रूस की एलीना ओसिपोवा को 6 – 0 से हराकर पेरिस वर्ल्ड कप में गोल्डन हैट्रिक पूरी कर देश को गौरवान्वित किया।

टोक्यो ओलंपिक 2021 में दीपिका का प्रदर्शन :

दीपिका कुमारी का ओलंपिक पदक जीतने का सपना लगातार तीसरी बार तब टूट गया जब वह टोक्यो ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल में कोरिया की शीर्ष वरीयता प्राप्त खिलाड़ी अन सान से दीपिका 6-0 से हार गयी।

दीपिका कुमारी की शादी :

दीपिका कुमारी के पति का नाम अतनु दास है. अतनु दास भी एक अंतराष्ट्रीय स्तर के भारतीय तीरंदाज है। अतनु ने भी देश के लिए कई मेडल जीते है। दीपिका कुमारी और अतनु दास ने 30 जून 2020 को शादी की थी।

पुरस्कार :

पुरस्कार वर्ष
अर्जुन अवार्ड 2012
फिक्की स्पोर्ट्सपर्सन ऑफ द ईयर अवार्ड 2014
पद्मश्री 2016
यंग अचीवर्स अवॉर्ड 2017

FAQ :

Q. दीपिका कुमारी कौन है ?

ANS. दीपिका कुमारी Dipika Kumari एक राष्ट्रीय स्तर की लोकप्रिय भारतीय तीरंदाज है।

Q. कुमारी के पति का नाम क्या है ?

ANS. अतनु दास

Q. दीपिका कुमारी की शादी कब हुई ?

ANS. 30 जून 2020

अन्य पोस्ट पढ़े :

1 – अतनु दास भारत के युवा तीरंदाज का जीवन परिचय :

2 – भारतीय पहलवान प्रिया मालिक का जीवन परिचय :

3 – वंदना कटारिया भारतीय महिला हॉकी खिलाड़ी का जीवन परिचय :

4 – मीराबाई चानू की जीवनी :


Social Share

Leave a Comment

जानिए रविंद्र जडेजा क्यों हुए वर्ल्ड कप से बाहर लाइगर फिल्म अभिनेत्री अनन्या पांडे फैक्ट मीराबाई चानू ने जीता बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक Actress Tara Sutaria Biography, Age, Height, Family, Moveis, Networth भारती और हर्ष पहली बार नजर आए अपने बेबी के साथ जानिए बेबी का नाम बॉलीवुड की हॉट एक्ट्रेस दिशा पाटनी के बारे में जाने