डॉ के सिवन बायोग्राफी | Dr K Sivan Biography in Hindi

Social Share

डॉ के सिवन बायोग्राफी, भारतीय वैज्ञानिक, जन्म, परिवार, पुत्र, अवार्ड, नेटवर्थ [Dr K Sivan Biography in Hindi] (Indian Scientist, Birth, Family, Son, Award, Networth)

डॉ ० के सिवन भारत के महान अंतरिक्ष वैज्ञानिक हैं , इन्हे भारत के रॉकेट मैन के रूप में भी जाना जाता है। इनका जन्म तमिलनाडु राज्य के कन्याकुमारी जिले के छोटे से गाँव नागरकोली में हुआ था। इनके पिता का नाम कैलाशवदिवुनादर व माता का नाम चेलमल्ल था। इनकी पत्नी का नाम मालती सिवान है , इनके दो बेटे हैं । इनके पिता किसान थे , इनका परिवार बहुत ही गरीब था इनके गाँव में पढ़ाई का स्तर बहुत ही निम्न था। इनका प्रारंभिक जीवन बहुत ही कठिन दौर से गुजरा गरीबी होने के कारण इन्होने आम बेचकर पैसे जुटाए , इनके पिता ने पढ़ाई के लिए इन्हे बहुत प्रोत्साहित किया।

डॉ के सिवन बायोग्राफी

नाम (Name)डॉ ० के सिवन (Dr K Sivan)
पूरा नाम (Full Name)कैलाशवटिवू सिवान
जन्म (Birth)14 अप्रैल 1957 
उम्र (Age)65 वर्ष (2022)
जन्म स्थान (Birth Place)कन्याकुमारी ( तमिलनाडु )
पिता (Father Name)कैलाशवदिवुनादर
माता (Mother Name)चेलमल्ल
पत्नी (Wife)मालती सिवान
पुत्र (Son)सिद्धार्थ और सुशांत
शिक्षा (Education)मदुरै विश्वविद्यालय (बीएससी)
मद्रास प्रौद्योगिकी संस्थान (बी.टेक)
आईआईएससी, बैंगलोर (एम.ई.)
आईआईटी, बॉम्बे (पीएचडी)
धर्म (Religion)हिंदू
राष्ट्रीयता (Nationality)भारतीय

शिक्षा (Education)

इन्होने कक्षा 1 से कक्षा 8 तक की पढ़ाई गाँव के ही सरकारी स्कूल से तमिल भाषा में की ,ये पढाई में अव्वल थे ,ये अपने परिवार के एकमात्र व्यक्ति थे ,जो ग्रेजुएट थे। ये बी टेक BTech करना चाहते थे , लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण इन्होंने मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से 1980 में बीएससी मैथ की डिग्री ली, लेकिन बाद में इनके पिता ने इन्हें बीटेक भी करवाया और 1982 में इन्होंने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बेंगलुरु से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग भी की।  यह पढ़ने में बहुत ही बुद्धिमान थे इनका आईआईटी चेन्नईआईआईएससी दोनों ही जगह सिलेक्शन हो गया था लेकिन उन्होंने आईआईएससी ( इंडियन इंस्टीटुए ऑफ़ साइंस ) को चुना।

करियर (Carrer)

  • वर्ष 1982 में डॉ के सिवन  indian space research organisation ( ISRO )  के साथ जुड़े। उसके साथ ये विक्रम साराभाई सेंटर से भी जुड़े। इनकी इंजीनिरिंग का ज्ञान अतुलनीय था इन्होने अपने कॅरियर की शुरुआत polar satelite launch vechile (pslv) से की , बाद में इन्होने वर्ष  2006 में IIT  बॉम्बे से ऐरोस्पेस इंजीनिरिंग में पीएचडी  भी कर ली। इन्होने सितारा सॉफ्टवेयर भी बनाया ,इन्हे  भारत के अंतरिक्ष अनुसन्धान कार्यक्रम के लिए कार्योजनिक इंजन के विकास में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए जाना जाता है।
  • वर्ष 2015 में इन्हे इसरो का चीफ बनाया गया।
  • वर्ष 2017 में इन्होने 104 satelite लांच कर विश्व रिकॉर्ड स्थापित किया।
  •  GSLV ( जिओसिंक्रोनोस  सैटेलाइट लांच विहिकल ) मार्क- 3 भारत का सबसे शक्तिशाली राकेट है जिसके द्वारा 22 जुलाई 2019 को चंद्रयान -2 मिशन को प्रक्षेपित किया गया,जो 15 % सफल रहा।
  • आने वाले समय के प्रोग्राम वर्ष 2021 में गगनयान मिशन ,आदित्य एल वन  जो sun की स्टडी करने के लिए भेजा जायेगा।
  • शुक्र ग्रह पर भी satelite भेजने का प्रोग्राम भी शामिल है।

पुरुस्कार (Awards)

  • 1999 में डॉ विक्रम सारा भाई रिसर्च अवार्ड  
  • इसरो मेरिट अवार्ड -2007 
  • डॉ वीरेनरॉय स्पेस साइंस -2011 
  • तमिलनाडु सर्कार द्वारा डॉ अब्दुल कलाम आजाद अवार्ड -2019 
  • वॉन कर्मन पुरस्कार दिया जायेगा -2021 

पुस्तक (Book) 

  • इंटीग्रेटेड डिज़ाइन फॉर स्पेस ट्रांसपोरेशन सिस्टम

FAQ :

Q : डॉ के सिवान कौन है ?

Ans : डॉक्टर के सिवान एक भारतीय अंतरिक्ष वैज्ञानिक है, वर्तमान समय में भी इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) के अध्यक्ष हैं।

Q : डॉ के सिवान की उम्र कितनी है ?

Ans : 65 वर्ष (2022)

Q : डॉ के सिवान के पुत्र का नाम क्या है ?

Ans : इनके दो पुत्र हैं जिनका नाम सिद्धार्थ और सुशांत है।

Q : डॉ के सिवान की पत्नी का नाम क्या है ?

Ans : मालती सिवान

अन्य पोस्ट पढ़े :

1 – डॉ एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी :

2 – भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की जीवनी :


Social Share

Leave a Comment

T20 में शतक जड़ने वाले भारतीय बल्लेबाज की लिस्ट गिल ने की ताबड़तोड़ बैटिंग कीवीयो के खिलाफ लगाया शतक भारत ने जीता अंडर-19 क्रिकेट महिला विश्व कप ICC के वर्ष के सर्वश्रेष्ठ T20 क्रिकेटर बने सूर्यकुमार भारतीय क्रिकेटर जिन्होंने बॉलीवुड अभिनेत्रियों से की शादी केएल राहुल और अथिया शेट्टी आज करेंगे शादी वनडे में दोहरा शतक लगाने वाले भारतीय खिलाड़ी Shubman Gill ने लगाया पहला एकदिवसीय दोहरा शतक