गुरुराजा पुजारी का जीवन परिचय, वेटलिफ्टर, उम्र, हाइट, परिवार, मेडल | Gururaja Poojary Biography In Hindi

Social Share

गुरुराजा पुजारी का जीवन परिचय, वेटलिफ्टर, उम्र, हाइट, परिवार, मेडल, नेटवर्थ, करियर, पूरा नाम, हाइट, वेट, शिक्षा, इंस्टाग्राम, ट्विटर, राज्य, धर्म, जाति, प्रतिस्पर्धा, वाइफ, गर्लफ्रेंड, कोच [Gururaja Poojary Biography In Hindi] (Weightlifter, Birth, Age, Family, Medal, Net Worth, Career, Full Name, Height, Weight, Education, Instagram, Twitter, State, Religion, Caste, Competition, Wife, Girlfriend, Coach)

गुरुराजा पुजारी एक भारतीय वेटलिफ्टर है। ये पी॰ गुरुराजा के नाम से भी जाने जाते हैं। इन्होने ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में हो रहे 2018 राष्ट्रमण्डल खेलों में पुरुषों के 56 किग्रा भारवर्ग में स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 (बर्मिंघम) में शानदार प्रदर्शन करते हुए 61 किलोग्राम भार वर्ग में भारत को कांस्य पदक जीताने में कामयाबी हासिल की। कॉमनवेल्थ गेम 2022 में यह भारत का दूसरा मेडल है।

आपको बता दें कि गुरुराजा ने पुरुष वेटलिफ्टिंग के 61 किलोग्राम भार वर्ग स्नैच मैं 118 का स्कोर किया और वहीं उन्होंने क्लीन एंड जर्क में 151 का स्कोर किया। उन्होंने कुल 269 का स्कोर करते हुए यह कामयाबी हासिल की। इससे पहले संकेत सरगर ने भारत को कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 का पहला मेडल जीता।

guraraja pujaray
गुरुराजा पुजारी ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में जीता कांस्य पदक

गुरुराजा पुजारी का जीवन परिचय

(Gururaja Poojary Biography In Hindi)

नाम (Name)गुरुराजा पुजारी (Gururaja Poojary)
जन्म (Birth)15 अगस्त 1992
जन्म स्थान (Birth Place)कुंदापुर, कर्नाटक (भारत)
गृहनगर (Hometown)कुंदापुर , कर्नाटक
उम्र (Age)29 वर्ष
हाइट (Height)5 फीट, 1 इंच
वेट (Weight)61 KG
पेशा (Profession)भारतीय वेटलिफ्टर
प्रतिस्पर्धा (Event)61 किलोग्राम भार वर्ग
मेडल कांस्य पदक (राष्ट्रमंडल खेल बर्मिंघम 2022)
कॉलेज (College)कर्नाटक के उजीरे में स्थित एसडीएम कॉलेज
शिक्षा (Education)ग्रेजुएशन
कोच (Coach)राजेंद्र प्रसाद
धर्म (Religion)हिंदू
राष्ट्रीयता (Nationality)भारतीय
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)अविवाहित

गुरुराजा पुजारी का परिवार (Gururaja Poojary Family)

पिता (Father’s Name)महाबाला पुजारी
माता (Mother’s Name)ज्ञात नहीं
भाई (Brother)राजेश, 3 अन्य
बहन (Sister)ज्ञात नहीं
वाइफ/गर्लफ्रेंड (Wife/Girlfriend)अविवाहित

गुरुराजा पुजारी का जन्म, परिवार, शिक्षा

गुरुराजा पुजारी का जन्म 15 अगस्त 1992 को कर्नाटक राज्य के उडीपी जिले के कुंडापुरा गांव में हुआ था।

उनके पिता का नाम महाबाला पुजारी है जो कि एक ट्रक ड्राइवर हैं। गुरुराजा अपने पांच भाईयों में सबसे छोटे हैं। हालाँकि पी गुरूराजा का बचपन काफी अभावों में बीता लेकिन इस वजह से खेल के प्रति उनका लगाव कभी कम नहीं हुआ।

गुरुराजा पुजारी ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई कर्नाटक से ही की है। अपनी प्रारंभिक पढ़ाई के बाद कर्नाटक के उजीरे में स्थित एसडीएम कॉलेज से गुरुराजा ने अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई की है।

गुरुराजा पुजारी का करियर

भारतीय वेटलिफ्टर गुरुराजा पुजारी शुरुआत में पहलवान सुशील कुमार से बहुत प्रभावित थे। उनसे प्रेरणा लेकर गुरुराजा ने रेसलिंग से अपने कॅरियर की शुरुआत की थी, लेकिन बाद में कोच राजेंद्र प्रसाद ने उन्हें वेटलिफ्टिंग करने की सलाह दी जिसके बाद गुरुराजा पुजारी के रूप में भारत को एक बेहतरीन भारोत्तोलक मिला।

गुरुराजा ने वर्ष 2010 में अपने वेटलिफ्टिंग करियर की शुरुआत की। शुरुआत में उन्हें बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ा, क्योंकि उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी और उन्हें एक अच्छी डाइट के लिए काफी परेशानी उठानी पड़ी। इनका वजन भी काफी कम था। उन्हें लगने लगा कि शायद में वेटलिफ्टिंग नहीं कर पाउँगा लेकिन अपने कोच और अपने परिवार की प्रेरणा से वे आगे बढ़ते रहे और उन्होंने मन बना लिया कि उन्हें वेटलिफ्टर ही बनना है और देश के लिए पदक जीतना है।

इनाम से मिले हुए पैसो को ये अपने अच्छे डाइट में खर्च कर देते थे। लेकिन समय के साथ एक अच्छी डाइट के लिए इतना पैसा काफी नहीं था। इसी कारण इन्होने सेना में भर्ती होने का प्रयास किया लेकिन दुर्भाग्यवश छोटा कद होने के कारण इनकी भर्ती नहीं हो पायी। फिर इन्होने एयरफोर्स के लिए अप्लाई किया क्योकि वहां कद ज्यादा जरुरी नहीं होता। फिलहाल गुरुराजा वायुसेना में कर्मचारी हैं। 

वे 61 किलो वर्ग इवेंट में भारत की और से वेट लिफ्टिंग करते हैं। इन्होने अपने करियर में कई मेडल्स भी जीते। इन्होने कॉमन वेल्थ चैम्पियनशिप में कई बार भारत का नाम रोशन किया। 2016 में इन्हे स्वर्ण पदक मिला तो 2017 में इन्हे ब्रोंज मैडल के साथ ही संतोष करना पड़ा। 2021 में इन्होने अपने गेम में सुधार किया और भारत के लिए सिल्वर मैडल जीता।

गुरुराजा ने पिछले कॉमन वेल्थ गेम्स में सिल्वर मैडल जीता था और इस साल 2022 बिर्मिंघम में चल रहे कॉमन वेल्थ गेम्स में इन्होने ब्रोंज मैडल जीत कर भारत की झोली में दूसरा मैडल डाल दिया है। 61 किलो वर्ग में कनाडा के यूरी सीमार्ड ने स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया है, उन्होंने पुजारी से 1 किलो ज्यादा क्लीन एंड जर्क (269) उठाया। हम ये आशा करते हैं की आगे आने वाले समय में गुरुराजा भारत के लिए और भी मेडल्स जीत कर लाएं।

गुरुराजा पुजारी नेट वर्थ

इनकी नेट वर्थ तक़रीबन 1.5 मिलियन डॉलर है।

गुरुराजा पुजारी सोशल मीडिया

InstagramClick Here
TwitterClick Here

गुरुराजा पुजारी पदक (Gururaja Poojary Medal)

  • 2016 में गुरुराजा पुजारी ने साउथ एशियन गेम्स में 56 किलोग्राम भार वर्ग में गोल्ड मेडल जीता।
  • 2017 में हुए गोल्डकोस्ट कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में 56 किलोग्राम भार वर्ग में कांस्य पदक जीता।
  • 2018 में हुए कामनवेल्थ गेम्स में गुरुराजा ने भारत के लिए सिल्वर मेडल जीता।
  • 2021 के कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में 61 किलोग्राम भार वर्ग में गुरुराजा पुजारी ने रजत पदक जीता था।
  • 2022 में फिर से कामनवेल्थ गेम्स में भारत के लिए कांस्य पदक जीता है।

FAQ :

Q : गुरुराजा पुजारी कौन है ?

Ans : गुरुराजा पुजारी एक भारतीय वेटलिफ्टर है। उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम 2022 बर्मिंघम में 61 किलोग्राम भार वर्ग में कांस्य पदक जिताने में कामयाबी हासिल की।

Q : गुरुराजा पुजारी की उम्र कितनी है ?

Ans : 29 वर्ष

Q : गुरुराजा पुजारी की हाइट कितनी है ?

Ans : 5 फीट, 1 इंच

Q : गुरुराजा पुजारी ने कॉमनवेल्थ गेम 2022 में कौन सा पदक जीता ?

Ans : कांस्य पदक

Q : गुरुराजा पुजारी का जन्म कब हुआ था?

Ans : 15 अगस्त 1992

Q :  गुरुराजा पुजारी कहां के रहने वाले हैं ?

Ans : कुंडापुरा गांव, कर्नाटक

Q : गुरुराजा पुजारी किस खेल से संबंधित हैं ?

Ans : वेटलिफ्टिंग

अन्य पोस्ट पढ़े :


Social Share

Leave a Comment

T20 में शतक जड़ने वाले भारतीय बल्लेबाज की लिस्ट गिल ने की ताबड़तोड़ बैटिंग कीवीयो के खिलाफ लगाया शतक भारत ने जीता अंडर-19 क्रिकेट महिला विश्व कप ICC के वर्ष के सर्वश्रेष्ठ T20 क्रिकेटर बने सूर्यकुमार भारतीय क्रिकेटर जिन्होंने बॉलीवुड अभिनेत्रियों से की शादी केएल राहुल और अथिया शेट्टी आज करेंगे शादी वनडे में दोहरा शतक लगाने वाले भारतीय खिलाड़ी Shubman Gill ने लगाया पहला एकदिवसीय दोहरा शतक